लोको पायलट क्या है और लोको पायलट कैसे बने? – How To Become A Loco Pilot in Hindi?

By | अगस्त 23, 2021
लोको पायलट क्या है और लोको पायलट कैसे बने - How To Become A Loco Pilot in Hindi

आज हमारे देश में लोग कई सारे पदों पर काम करना चाहते हैजैसेकी Pilot Kaise Bane या Collector Kaise Bane इनके अलावाआज का हमारा यह लेख लोको पायलट बनने से संबंधित जानकारी को प्रस्तुत करने के लिए लिखा गया है।

आज के समय में हमारे देश में सभी बड़ी व्यवस्थाओं में से एक रेल व्यवस्था है और इसके लिए सबसे पहले एक बड़ा बजट निर्धारित किया जाता है।

भारतीय रेलवे के विकास को देखते हुए इसमें अब कई सारे पदों के लिए रिक्रूटमेंट निकाली जाती है।

अगर आप एक लोको पायलट बनना चाहते हैं, तो आपको लोको पायलट बनने के लिए क्या करना चाहिए? और आप कैसे एक सफल लोको पायलट बनेंगे?, इसके लिए आप हमारे आज के इस लेख को अंतिम तक अवश्य पढ़े।

लोको पायलट क्या होता है?

लोको पायलट का पद भारतीय रेल में एक वरिष्ठ पदों की गिनती में गिना जाता है। एक लोको पायलट का पद सरकारी पद का होता है।

लोको पायलट का काम ट्रेन के ड्राइवर के रूप में होता है और इसे लोको पायलट पूरी तरीके से कंट्रोल में रखता है और ट्रेन को चलाने के लिए वह पूरी तरीके से जिम्मेदार होता है।

लोको पायलट क्या है और लोको पायलट कैसे बने? - How To Become A Loco Pilot in Hindi?

ट्रेन बिना किसी दुर्घटना के ऑपरेट हो सके इसके लिए लोको पायलट ट्रेन को ऑपरेट करते हैं।

लोको पायलट बनने के लिए आपको आयोजित परीक्षा में उत्तीर्ण होना होता है और इतना ही नहीं कुछ वर्षों तक लोको पायलट असिस्टेंट के रूप में कार्य करने के पश्चात आपको लोको पायलट के पद पर पदोन्नति प्रदान की जाती है।

लोको पायलट का पद बहुत ही जिम्मेदारी का होता है। 


ये पढ़िए:- गांव में बिज़नेस स्टार्ट करने के 20+ आइडियाज कौन से है?


लोको पायलट कितने प्रकार के होते हैं?

अब आप सोच रहे होंगे किक्या लोको पायलट के भी प्रकार होते होंगे?, तो इसका जवाब है, जी हां दोस्तों इसके तीन प्रकार होते हैं, इसकी जानकारी प्रकार से नीचे निम्नलिखित है।

  1. लोको पायलट :-ट्रेन को पूरी तरीके से कंट्रोल में रख कर उसे ऑपरेट करने वाला व्यक्ति मेन लोको पायलट कहलाता है।
  2. असिस्टेंट लोको पायलट :-लोको पायलट के सहायक को असिस्टेंट लोको पायलट कहते हैं और लोको पायलट के द्वारा दिए गए सभी आदेशों को पूरा करने का और उसे करने का कार्यभार असिस्टेंट लोको पायलट के ऊपर होता है।
  3. सीनियर असिस्टेंट लोको पायलट :-लोको पायलट से भी सबसे छोटी पोस्ट सीनियर असिस्टेंट लोको पायलट की होती है और इन्हें भी लोको पायलट के द्वारा दिए गए सभी निर्देशों का पालन करना होता है।

लोको पायलट कैसे बने?

लोको पायलट बनने के लिए आपको सबसे पहले 10वीं और 12वीं की परीक्षा को उत्तीर्ण करना अनिवार्य होगा।

इतना ही नहीं इसके उम्मीदवारों के पास ऑटोमोबाइल, मैकेनिकल और इलेक्ट्रॉनिक्स फील्ड में डिप्लोमा डिग्री, पॉलिटेक्निक की डिग्री या फिर ग्रेजुएशन की डिग्री होनी अनिवार्य है।

कभी भी लोको पायलट का चयन डायरेक्ट नहीं किया जाता है, इसके लिए सबसे पहले असिस्टेंट लोको पायलट का चयन किया जाता है और 10 से 15 साल तक असिस्टेंट लोको पायलट के रूप में काम करने के बाद आपको लोको पायलट के पदोन्नति को प्रदान कर दिया जाता है और फिर आप एक लोको पायलट के रूप में जाने जाते हैं। 

लोको पायलट बनने के लिए जरूरी योग्यता की जानकारी? 

लोको पायलट बनने हेतु आपको कुछ जरूरी योग्यता के बारे में जानना आवश्यक है और फिर उसी के आधार पर आप लोको पायलट बनने के लिए अपना आवेदन कर सकते हैं।

चलिए जानते हैं, कि इसके लिए जरूरी योग्यता क्या है?, जिसकी जानकारी इस प्रकार से नीचे निम्नलिखित है।

  • शैक्षणिक योग्यता:- लोको पायलट बनने के लिए उम्मीदवार को 10वीं और 12वीं को पास करना अनिवार्य है और इसके साथ ही उम्मीदवार के पास आईटीआई का 2 वर्षों का डिप्लोमा होना अनिवार्य है और इसके अतिरिक्त पॉलिटेक्निक में डिप्लोमा होना भी अनिवार्य है।
  • स्वास्थ्य संबंधित योग्यता:-इसके लिए उम्मीदवार के निकट दृष्टि दोष और दूर दृष्टि दोष का भी टेस्ट किया जाता है।अगर आपके दृष्टि में सामान्य दोष पाया जाता है, तो ऐसी परिस्थिति में उम्मीदवार को चश्मे के लिए रिकमेंड किया जा सकता है और अगर आपकी दृष्टि में गंभीर दोष पाया जाएगा तो आपको लोको पायलट बनने की अनुमति नहीं दी जाएगी।
  • आयु सीमा की योग्यता:-लोको पायलट बनने हेतु उम्मीदवारों की आयु सीमा लगभग 18 वर्ष से लेकर 28 वर्ष के बीच में होनी चाहिए। वही एससी और एसटी के उम्मीदवारों के लिए आयु सीमा में छूट प्रदान की जाएगी।

लोको पायलट बनने की प्रोसेस?

लोको पायलट के रिक्रूटमेंट के लिए भारतीय रेलवे भर्ती बोर्ड के तरफ से ग्रुप सी के लिए रिक्रूटमेंट हेतु परीक्षा आयोजित करवाई जाती हैं।

एक बार इसमें लग जाने के बाद आपको ग्रुप डी के लिए प्रमोट कर दिया जाता है। जिसमें आप लोको पायलट के रूप में कार्य करते हैं।

लोको पायलट बनने हेतु आपको तीन प्रक्रियाओं से होकर गुजर ना होता है और उसकी जानकारी इस प्रकार से नीचे निम्नलिखित रूप में विस्तार से बताई गई है।

लोको पायलट क्या है और लोको पायलट कैसे बने? - How To Become A Loco Pilot in Hindi?
  1. रिटन एक्जाम:-लोको पायलट के पहले चरण में आपको लिखित एग्जाम को क्लियर करना होता है और इसके अलग-अलग लेकिन किसानों को अलग-अलग भागों में लिया जाता है। लिखित एग्जाम क्लियर करने के बाद आपको एक मेडिकल टेस्ट भी देना होता है।
  2. इंटरव्यू:-  रिटन एग्जाम को क्लियर करने के बाद आपको बुद्धिमता का एक महत्वपूर्ण टेस्ट देना होता है। इसमें आपसे सामने वाला व्यक्ति जल्दी-जल्दी और सटीक जवाब की उम्मीद करता है। इसमें आपसे कुछ इंग्लिश के प्रश्न भी पूछे जा सकते हैं और इसीलिए आपको English Kaise Sikhen से संबंधित जानकारी होनी अनिवार्य है और आपको अच्छी अंग्रेजी भी सीखनी होगी। अगर आप इंटरव्यू को लेने वाले व्यक्ति के सभी सवालों के एकदम सही और सटीक जवाब तीव्रता से देते हैं, तो आप इसमें भी पास हो जाते हैं।
  3. ट्रेनिंग:-एक लोको पायलट को अंतिम के प्रोसेस में टेक्निकल और ऑपरेटिव से संबंधित ट्रेनिंग को प्रदान किया जाता है।ट्रेन को ऑपरेट करने के लिए किन नियमों का पालन किया जाता है? और एक लोको पायलट को किन किन नियमों के आधार पर ट्रेन को ऑपरेट करना होता है?,इसकी भी जानकारी ट्रेनिंग में प्रदान की जाती है। लोको पायलट के पद पर कार्य करने के बाद भी लोको पायलट को प्रत्येक 3 वर्ष में इन्हें अप टू डेट रहने के लिए ट्रेनिंग प्रदान की जाती है।

जरूर पढ़ें:- Amazon Delivery Boy कैसे बने और पैसे कैसे कमाए (पूरी जानकारी)


टॉप फाइव इंडियन लोको पायलट कॉलेज की लिस्ट?

  1. PSG College of Technology, Coimbatore.
  2. Madras Institute of Technology, Chennai
  3. SCMS Schoolof Engineering And Technology (SSET), Cochin.
  4. SRM University, Chennai
  5. Veermata Jijabai Technological Institute(VJTI), Mumbai.

लोको पायलट बनने के लिए आवश्यक कौशल?

  • लोको पायलट के लिए उन्हीं लोगों को चयनित किया जाता है, जिनका आईविजन हंड्रेड परसेंट होता है।
  • लोको पायलट के लिए आपकी शारीरिक क्षमता अच्छी होनी चाहिए और आपका स्वास्थ्य भी बीमारी रहित होना चाहिए।
  • आपके अंदर सूझबूझ और धैर्य का होनी चाहिए साथ ही विषम परिस्थितियों में कैसे लोगों को हैंडल करना है और अपने आप को हैंडल करना है, इसका भी आवश्यक कौशल होना चाहिए।
  • अगर ट्रेन आपके कंट्रोल से किन्ही कारणों से निकल जाती है और इस परिस्थिति में आपको क्या करना चाहिए, जिससे यात्री सुरक्षित रहें, इस पर भी आप को आवश्यक कौशल और धैर्य के साथ सही निर्णय लेने का भी साहस होना चाहिए।
लोको पायलट क्या है और लोको पायलट कैसे बने? - How To Become A Loco Pilot in Hindi?

लोको पायलट का वेतन?

शुरुआती समय में ग्रेड पे की सुविधा के साथ लोको पायलट का वेतन लगभग ₹20000 से लेकर ₹30000 के बीच का हो जाता है। वहीं सीनियर लोको पायलट का वेतन प्रत्येक माह ₹50000 से लेकर ₹60000 तक के बीच में हो सकता है।

लोको पायलट का पद आपके लिए सम्मानजनक पद हो सकता है और आप इसमें अपने करियर को बना सकते हैं।

निष्कर्ष:-

आज के इस लेख में हमने लोको पायलट क्या है? और लोको पायलट बनने के लिए क्या करें?,से संबंधित संपूर्ण विस्तार पूर्वक से जानकारी प्रदान की है और हो सकता है कि यह आपके लिए लाभकारी सिद्ध हो।



ये भी पढ़िए:- Affiliate Marketing से पैसे कैसे कमाए और एफिलिएट मार्केटिंग क्या है?


लोको पायलट क्या काम करता है?

लोको पायलट ट्रैन चलाने का काम करता है और आप लोको पायलट को एक ट्रैन ड्राइवर भी कह सकते है।

लोको पायलट की सैलरी कितनी होती है?

लोको पायलट की सैलरी 20,000 से 40,000 रुपए माह होती है और सीनियर लोको पायलट की सैलरी 50,000 से 60,000 रुपए माह की होती है।

ट्रैन ड्राइवर की सैलरी क्या होती है?

ट्रैन ड्राइवर की सैलरी 20,000 से 50,000 रुपए तक होती है और प्रमोशन के साथ ये बढ़ती भी रहती है।